सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

February, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

happy holi

dear friends a very happy holi to u all

holi ffag

&J`xh_f"k /kke&gksyh Qkx&ljtw rV ikou iq.; /kke vkJe J`axh _f"k I;kjkfofnr lalkjkAAif'pe cgS ljtw lfj Hkkjh] HkksjoS ugk,¡ mfB if.Mr iqtkjh'khry vxe ty/kkjkAA'ka[kukn ?kaVk /ofu lqUnj] gksr vkjrh efUnj&efUnjAAxw¡tr pgqfnfl /kqfu jke&jke] lc lUr djSa t;dkjkfofnr lalkjkAA1AAiszenkl th dS efUnj iqjkuk] tgk¡ txnh'k nkl djSa /;kukvfr vkpj.k mnkjkAAcktr <+ksy gksr jkek;.k] dgr iqjk.k dFkk euHkkouAAlRlax djfga eqfu lqcg 'kke] fopjr djSa /keZ izpkjkfofnr lalkjkAA2AAdkfrd pSr lkou eg esyk] ?kkV&?kkV epS Bsy&e Bsykpgq¡ fnfl HkhM+ vikjkAA/keZ /kqjhu foiqy uj ukjh] djSa LUkku HkhM+ cM+h HkkjhAA

my manali tour

this is the scene of rohtangpas darra of manali i was there before two year but still this picture make me remember thet moment as well as i am still there only

होली फगुआ

सर विकल पड़े लक्षिमन रण में, हनुमान संजीवनि लाओ


लखन को बचाओ !!






बोले वैद्य बीति जौ रैना , लखन लाल कै प्राण बचै ना


कोटिक जतन कराओ !!२!!






होय जौ बुधि बल अगम विचारी, तेहि पठवऊ यह विनय हमारी !!






धौलाचल सो पहुचइ छन में , अब और विलम्ब ना लाओ


लखन को बचाओ !!






कह रिछेस सुनु पवन कुमारा, राम काज लगि तव अवतारा


निज स्वरुप ना भुलाओ !!२!!






जेहि बल लान्घेऊ सिन्धु अपारा, अक्षय संहारी असुर पुर जारा !!






फिर सोई संकल्प भरो मन में , रघुवर कर शोक नशाओ


लखन को बचाओ !!






राम सुमिर मन चले बजरंगी , सर समान पहुचे रणरंगी


शैल देखि भ्रम खायो !!३!!






देखि देरि गिरि श्रृंग उपारी , कर धरि चले अतुल बल धारी !!






नहि विघ्न पड़े मेरे प्रण में , लीलाधर पार लगाओ


लखन को बचाओ !!






उहाँ विलम्ब देखि रघुराई , करत विलाप अनुज उर लाइ


भ्रात ना मोहि तजि जाओ !!४!!






विविध भांति विलपत रघुनन्दन, आई गयौ हनुमत दुःख भंजन !!






सुर बरसैं सुमन गगनांगन में, बूटी मलि वैद्य पिलायो


लखन को बचायो !!






महाकवि आर्त
विष्णु  जब  अवतार  आपका  त्रेता  के  अन्दर  होगा  कदम -कदम  पर  आपका  रक्षक  धरती  पर  बन्दर  होगा 
आप  बनेंगे  रामचन्द्र  लक्ष्मी  होंगी  सुन्दर  नारी  जाएँगे  वन  साथ  चलेंगी  जनक  नंदिनी  सुकुमारी  सिया  हरण  करने  वाला  वो  योद्धा  दशकंधर  होगा
कदम -कदम  पर  आपका  रक्षक  धरती  पर  बन्दर  होगा !! 
क्रिस्किन्धा  पर  जाएँगे  तो  मिलेंगे  बानर  राज  वहां  मैत्री  होगी  प्रेम  बढेगा  और  बनेंगे  काज  वहां  सिया  खोज  करने  वाला  कपि रूद्र  रूप  शंकर  होगा
कदम -कदम  पर  आपका  रक्षक  धरती  पर  बन्दर  होगा !! 
मेघनाद  की शक्ति  लगेगी  लखन  लाल  मूर्छित  होंगे  होगी  दशा  विचित्र  आपकी  फूट -फूट  कर  रोएंगे  संजीवनी  को  लाने  वाला  महावीर  गिरिधर  होगा  कदम -कदम  पर  आपका  रक्षक  धरती  पर  बन्दर  होगा !!

हे  नारायण  शक्ति  आपकी  होगी  सब  वानर  सेना  लंका  विजय  कराकर  वापस  होगी  सब  वानर  सेना  पूरण  होगी  कथा  आपकी जगत  पूज्य  कपिवर  होगा 
कदम -कदम  पर  आपका  रक्षक  धरती  पर  बन्दर  होगा !!


महाकवि आर्त

HOLI SPECIAL MATVALA

सुगना टेरी-टेरी राधा रमण को रिझा ले
सबकी सुनें वो सुनेंगे तुम्हारी
मेटें करम गति कृष्ण मुरारी
जैसे पुकारी तरी गडिका सी नारी
की वैसै तू बिगड़ी बना ले
करिहैं नाहि देरी
करिहैं नाहि देरी
जन्मों की बिगड़ी बना ले
सुगना टेरी-टेरी राधा रमण को रिझा ले




माया भवर उलझी तेरी नैया
बिन गोपाल न कोई खिवैया
सब दुःख हरिहैं यशोदा के छैया
कि  उनको चरण पड़ी मना ले
माया जेकै चेरि
माया जेकै चेरि


उनको शरण पड़ी मना ले
सुगना टेरी-टेरी राधा रमण को रिझा ले








अनिरुद्ध मुनि पाण्डेय 'आर्त'

NEW YEAR WISHES

AAYA NAYA SAVERA NAV VARSH KA A PYARE
HAM KAMNA KARTE HAIN SHUBH HAR SAL HON TUMHARE
IS PARV PAR SHUBH KAMNA KARTE YAHI KI TERE
JEEVAN K EK BHI PAL JAEN NAHI GAVARE
MERI BHI SAB KHUSHIYAN TUMHE MIL JAEN A MERE DOST
AUR GAM TUMHARE AA PADEN SAB BHAGY ME HAMARE
BAS AAKHIRI KAHTA 'AANAND' BHOOLNA MAT MUJHKO
HAM JI NAHI PAENGE BIN AAPKE SAHARE.....

SORRY FRIENDS
NEW YEAR WISHES THODI DER ME DE RAHA HUN

MAHA KAVI AART VACHAN

Chhal kabhi pyar ho nahi sakta
Bhakt lachar kabhi ho nahi sakta
Jisne jag ko khushi hi banti sada
Uska apkar kabhi ho nahi sakta

Dhan shanti ka saman kabhi ho nahi sakta
Hari bhakt ko abhiman kabhi ho nahi sakta
Shohrat ki bulandi ko bhi koi choo le magar ai ‘Aart’
Ik aadmi bhagvan kabhi ho nahi sakta


Aniruddha Muni Pandey ‘AART’