सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

holi ffag

&J`xh_f"k /kke&gksyh Qkx&

 

ljtw rV ikou iq.; /kke vkJe J`axh _f"k I;kjk

fofnr lalkjkAA

 

if'pe cgS ljtw lfj Hkkjh] HkksjoS ugk,¡ mfB if.Mr iqtkjh

'khry vxe ty/kkjkAA

 

'ka[kukn ?kaVk /ofu lqUnj] gksr vkjrh efUnj&efUnjAA

 

xw¡tr pgqfnfl /kqfu jke&jke] lc lUr djSa t;dkjk

fofnr lalkjkAA1AA

 

iszenkl th dS efUnj iqjkuk] tgk¡ txnh'k nkl djSa /;kuk

vfr vkpj.k mnkjkAA

 

cktr <+ksy gksr jkek;.k] dgr iqjk.k dFkk euHkkouAA

 

lRlax djfga eqfu lqcg 'kke] fopjr djSa /keZ izpkjk

fofnr lalkjkAA2AA

 

dkfrd pSr lkou eg esyk] ?kkV&?kkV epS Bsy&e Bsyk

pgq¡ fnfl HkhM+ vikjkAA

 

/keZ /kqjhu foiqy uj ukjh] djSa LUkku HkhM+ cM+h HkkjhAA

 

gj"kfga eu dfj n'kZu iz.kke] esVr Hko Qan djkjk

fofnr lalkjkAA3AA

 

HkkX;oar bZ'kkiqj oklh] njl ikb izfr iwj.keklh

fut ijyksd lq/kkjkAA

 

^vkrZ* fou; lqfu nzogq [kjkjh] djm d`ik gs tu nq[kgkjhAA

 

fcljS u dcgq¡ Hk;gju uke] tks djS tx&tyfuf/k ikjk

fofnr lalkjkAA4AA

 

                   erokyk

 

gfj dk¡ fcljk; dkgs fQjs rw¡ HkqykukAA

 

dapu nsafg;k¡ ls usfg;k yxk;k

myf>&2 /ku laifr dek;k

rcgw¡ u dcgw¡ lq[kh gksb ik;k

fd HkwY;k rw¡ dkSy iqjkuk

dksbZ lkFk u tk;&& fd HkwY;k rw¡ dkSy iqjkuk&2

gfj dk¡ fcljk; dkgs fQjs rw¡ HkqykukAA1AA

 

 

J`axh_f"k vkJe dS psrk Mxfj;k

^vkrZ* NksfM++ ek;k dS ctfj;k

jke uke dS rw¡ vks<+k pnfj;k tkS thou gS lQy cukuk

bgS lk¡pk mik;&&thou gS lQy cukuk&2

gfj dk¡ fcljk; dkgs fQjs rw¡ HkqykukAA2AA

 

bfr
 
egkdfo vkrZ

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)