सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

KAISA DURBHAGYA


edcwy fQnk gqlSu] ;g uke ysrs gh lHkh ds efLr"d esa ,d lQsn ckyksa okyk lQsn nk<+h okyk O;fDrRo mHkj vkrk gSA ,d izfl) Hkkjrh; fp=dkj tks fiNys dbZ o"kksZa ls Lons'k ls fuokZflr gSAA dkj.k & fgUnw nsoh&nsorkvksa dh v'yhy dkVwZu rLohj cukukA bruk gh ugha vfirq lHkh Hkkjrh;ksa dh ek¡¡ Hkkjr ek¡¡ dh v'yhy dkVwZu rLohj cukukAA og ek¡ Hkkjrh tks ge lc dh ek¡ gSa] gj Hkkjrh; dh ek¡ gSa D;k oks edcwy dh ek¡ ugha\ vkSj vxj gSa rks D;k dksbZ viuh ek¡ dh v'yhy rLohj cuk ldrk gS\ vkSj ;fn ugha rks D;k gd gS mls Hkkjrh; dgykus dk\ gj lEHkzkUr o ifjiDo O;fDr ds fpUru] fopkj/kkjk vFkok vfHkO;fDr ds fo"k; esa tulkekU; dh ,slh vo/kkj.kk gksrh gS fd og vfHkO;fDr ,d izkS<+ Lrj dh gksxh fdUrq edcwy fQnk gqlSu tSls [;kfryC/k fp=dkj }kjk ek¡ ljLorh ;k Hkkjr ek¡ dh rLohj dks ftl :i esa izLrqr fd;k x;k mlls mlds furkUr ?kfV;k o rqPN ckSf)d Lrj dk ifjp; feyrk gS vU;Fkk ml O;fDr dks Lo;a 'keZ vkuh pkfg;s FkhAA

vkt ds ,d lekpkj i= es geus ,d dkWye ns[kkA fy[kk Fkk& edcwy dh NksVh lh xyrh ds fy;s mls ns'k fuokZlu nqHkkZX;iw.kZ gSA ;g Hkkjrh; yksdrU= dh gkj gSA vki gh crkb;s vjcksa Hkkjrh;ksa dks ek¡ dh xkyh nsuk D;k NksVk vijk/k gS\ D;k bl vijk/k ds fy;s ns'k fuokZlu dh ltk i;kZIr gS\

,d rjQ dqN ,slk Hkh eatj ns[kus dks feyk fd ,d vKkr O;fDr us b.VjusV ij iSxEcj eksgEen lkgc dh dkVwZu rLohj yxk nh vkSj fo'o Hkj ls mls ekjus ds fy;s Qros tkjh fd;s x;sA Hkkjr ds dbZ laxBuksa us rks ml ds lj dks dye dj ykus okys dks ml O;fDr ds Hkkj ds cjkcj Lo.kZ ls rksyus rd dh ckr dj nhA eSa ml O;fDr dks drbZ lgh ugha dgwaxk ftlus djks.kksa eqlyekuksa dh Hkkouk dks Bsl igqapkbZ] fdUrq D;k ;g gekjk nksxykiu ugha gS fd ,d rjQ ,d /keZ ds vuq;kb;ksa dh vkLFkk ij pksV djus okys dks ekjus ds fy;s iwjh nqfu;k es Qros tkjh fd;s tkrs gS vkSj nwljh rjQ lukru /keZ gh ugha vfirq vjcksa Hkkjrh;ksa dks ek¡ dks xkyh nsus okys ij lcdh pqIih l/kh gS\ bruk gh ugha oju mlds ns'k fuokZlu dks nqHkkZX;iw.kZ crk;k tk jgk gSA D;k ge Hkkjrh;ksa dh jxksa es ikuh cgus yxk gS\ ftl ek¡ Hkkjrh dks vkØkUrkvksa ds gk¡Fkks ls eqDr djkus ds fy;s djksM+ks yksx cfy dh osnh ij g¡lrs& g¡lrs >wy x;s mlh ek¡ Hkkjrh ds vieku ij vkt mlh ds iq= pqIih lk/ks cSBs gSaA  D;k ge vHkh Hkh xk¡/kh dh vfgalk uhfr dk vuq'kj.k dj jgs gSa ;fn gk¡ rks ge vfgald ugha uiqald dgs tk,axsA tks viuh ek¡ ds vieku gksus ij Hkh vfgalk dh ekyk tis oks euq"; ugha] i'kq gS] tSls ,d i'kq viuh tUe nsus okyh ek¡ ls Hkh vius iq= iSnk dj ysrk gSAA

eSa vki lHkh Hkkjrh;ksa rFkk mu lHkh ls Hkh ftudh utj esa ek¡ dk lEekuuh; LFkku gS] vihy djrk gw¡ fd d`i;k ,sls gj 'k[l ds f[kykQ viuh vkokt dks cqyUn dhft;s tks ek¡&iq= ds bl ifo= lEcU/k dks dyqf"kr djrs gSaA


oUns ekrje~

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)