सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

pracheen bhartiya siksha paddhhati

¬
ijEijkxr Hkkjrh; f'k{k.k i)fr;ksa dh vo/kkj.kk ,oa orZeku 'kSf{kd rU= esa mi;ksfxrk

foosdkuUn ik.Ms;
'kks/k Nk=]laLd`r foHkkx
Mk0 jkeeuksgj yksfg;k vo/k fo'ofo|ky;
QStkckn

txrxq# mikf/k ls foHkwf"kr gekjk Hkkjr izkphu dky ls gh fofHkUu izdkj dh f'k{kkvksa dk dsUnz lk jgk gSA lEiw.kZ fo'o esa tc ekuo i'kqor thou th jgk Fkk ml le; gekjk Hkkjrh; lekt thou thus dh dykvksa dk foLrkj dj jgk Fkk] fo'o tc lkekU; thou ,oa Hkk"kk O;ogkj lh[k jgk Fkk ml le; gekjs _f"kx.k txf)rk; lkse;kxkfn lEikfnr dj jgs Fks] rFkk tc fo'o vKku ds vU/kdkj esa loZFkk yqIr Fkk ml le; gekjs vkReKkuh] czãnz"Vk euhf"k;ksa us mu xzUFkksa dk iz.k;u fd;k tks rhuksa dkyksa] n'kks fn'kkvksa vkSj lHkh yksdksa esa leku mikns;rk j[krs gSaA
    izkphu Hkkjrh; f'k{kk i)fr eq[;r% xq#dqy ijEijk ij vk/kkfjr Fkh] tgk¡ ,d lkekU; nfjnz czkã.k ls ysdj ns'k ds lezkV ds iq= Hkh leku oYdy oL=ksa es vius xq# ds lehi Hkwfe ij gh leku vkluksa ij cSBdj f'k{kk xzg.k djrs FksA xq# Hkh mu ckydksa es u rks ;qojkt ns[krk Fkk u gh nfjnz czkã.k vfirq og lHkh dks fouk HksnHkko ds] leku :i ls fo|k lathouh dk iku djkrk FkkA xq#dqyksa esa izos'k dk dky izk;% miu;u laLdkj ds lkFk gksrk Fkk] rRi'pkr~ ckyd 25 o"kZ dh vk;q rd vkJe esa gh jgdj fo|k xzg.k djrs FksA bu o"kkasZ es mUgs ?kj tkus dh vuqefr ugha gksrh FkhA fo|k lekfIr ds i'pkr~ lHkh f'k"; xq# dh bPNkuqlku rFkk Lo lkeF;kZuqlkj xq# nf{k.kk iznku djrs FksA
    xq#dqyksa es izk;% lHkh izdkj dh f'k{kk;sa nh tkrh FkhaA osn ¼lafgrk] czkã.k] vkj.;d] mifu"kn~½] osnk³~x] n'kZu] rdZZ] U;k;] lka[;] ;ksx] vk;qoZsn] /kuqoZsn] 'kL=fo|k] [kxksy'kkL= vkfn ds lkFk gh lkFk euq"; dks lnkpkj dh] thou thus dh] nq[k esa Hkh /kS;Z cuk;s j[kus dh] rFkk bZ'oj ij fo'okl o leiZ.k dh dyk Hkh fl[kkbZ tkrh FkhA bl izdkj tc fo|kFkhZ bu xq#dqyksa ls viuh f'k{kk iwjh djds fudyrk Fkk rks mlesa lekt ds dY;k.kkFkZ Kku ds lkFk gh lkFk pfj= dk cy Hkh gksrk Fkk ,oa og lekt dk vkn'kZ curk FkkA
    oSfnd dky ls yxHkx NBh 'krkCnh bZ0 rd ;g f'k{kk i)fr lqpk# :i ls pyrh jghA gkykafd chp&chp esa oSnsf'kd vkØkUrkvksa us bl i)fr dks cgqr gkfu Hkh igq¡pk;hA fdUrq eqxydky rd ;g O;oLFkk ;Fkk dFkafpr vius fLrRo dks cuk;s j[kus esa lQy jghA eqxyksa dk eq[; mn~ns'; Hkkjrh; lukru laLd`fr dks u"V djuk rFkk eqfLye /keZ dks c<+kuk Fkk] vr% mUgksaus loZizFke f'k{kk i)fr dks u"V djuk izkjEHk fd;kA ukyUnk fo'ofo|ky; bldk Toyar izek.k gS ftldk iqLrdky; eqxyksa ds }kjk tyk fn;k x;k vkSj iqLrdsa 6 eghuksa rd tyrh jghaA
    eqxydky ls gh xq#dqy ijEijk dk gzkl izkjEHk gqvk vkSj fczfV'k dky es iw.kZr% u"V gks x;kA fczfV'k inkf/kdkjh eSdkys us Hkkjr es u;h f'k{kk uhfr dk izlkj fd;k ftldk eq[; mn~ns'; gekjs vkilh izse o HkkbZpkjs dks lekIr djuk FkkA eSdkys us ns[kk fd dk;Z{ks= esa tks Lokfe&lsod dk vkpj.k djrs gSa ogh ckgj ijLij xys feyrs gSaA mlus lcls igys Hkkjr dh bl vkRek dks ekjus dk ladYi fy;k vkSj vUrr% og lQy Hkh jgkA
    vkt dh f'k{kk uhfr fujk /kuktZu ,oa HkkSfrdrkoknh gSA ge vkd.B LokFkZ ls Mwc dj viuksa ls gh nwj gks jgs gSaA viuksa ls gekjs lEcU/k furkUr vkSipkfjd gksrs tk jgs gSA Hkkjr dks fQj ls Hkkjr cukus ds fy;s rFkk gekjh e`r vkRek dks iqu% ftykus ds fy;s gekjh izkphu f'k{kk i)fr dks iqu% vaxhd`r djuk gh gksxkAA


µbfrµ

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)