सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

November, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जइबै हनुमानगढी अवध नगरिया mp3- कवि 'आर्त' की आवाज में लोकगीत ।।

यहाँ क्लिक करके गीत सुनें/डाउनलोड करें ।

Publisher Software from YUDU


आज आपके सम्‍मुख कवि आर्त के द्वारा रचित तथा उन्‍ही के द्वारा गीत यह लोकगीत प्रस्‍तुत कर रहा हूँ ।
ये गीत अयोध्‍या के श्रीहनुमान गढी का चित्रण करता है तथा प्राय: अयोध्‍या के सभी मुख्‍य स्‍थानों का इसमें बडा ही सजीव चित्रण हुआ है ।
यदि आप श्री अयोध्‍या जी नहीं गये हैं तो इस गीत को सुनिये, आपको अयोध्‍या जी के खास-खास स्‍थानों की जानकारी गीत के ही माध्‍यम से हो जायेगी ।

आवाज श्री कवि पाण्‍डेय जी की है ।
हारमोनियम वादन भी उन्‍ही के द्वारा किया गया है ।
ढोलक पर श्री स्‍वरूपानन्‍द जी ने संगत की है ।

बहुत ही मधुर गीत है , प्रेम से श्रवण कीजिये व हमें बताइये कि आपको कैसा लगा ।

कवि श्री अनिरूद्धमुनि पाण्‍डेय 'आर्त' कृत श्री हनुमत् विनय कुंज ।। डाउनलोड करें ।।

बन्‍धुओं आज आपके सामने एक ऐसी चीज प्रस्‍तुत करने जा रहा हूँ जो अति उत्‍कृष्‍ट है और आप के दैनिक प्रयोग में आ सकेगी । कवि श्री अनिरूद्धमुनि पाण्‍डेय 'आर्त' कृत श्रीहनुमत् विनयकुंज नामक ये लघु काव्‍य बिलकुल हनुमान चालिसा की तरह दैनिक पूजा में प्रयोज्‍य है । फैजाबाद शहर के स्‍तर पर यह पुस्‍तक प्राय: उपलब्‍ध है किन्‍तु विषय की उपयोगिता और उत्‍तम साहित्‍य देखकर मैने इसे आप विद्वद्जनों के सामने प्रस्‍तुत करने का निर्णय लिया ।।
आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विश्‍वास है कि ये आपको अति प्रिय लगेगा ।
।। फाइल यहाँ से डाउनलोड करें ।।

जयतु संस्‍कृतम् ।।

ये वीडियो कुछ ज्‍यादा दिनों ही बाद प्रकाशित कर पा रहा हूँ ।
मई में हुए संस्‍कृत शिविरायोजन का दृष्‍य है ।