सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

March, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मुश्किल है अपना मेल प्रिये

मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये


तुम M.A. फर्स्ट डिवीजन हो मैँ हुआ मैटरिक फेल प्रिये मुश्किल है अपना मेल प्रिये ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये ~ तुम फौजी अफसर की बेटी
मैँ तो किसान का बेटा हूँ
तुम रबड़ी खीर मलाई हो
मैँ तो सत्तू सपरेटा हूँ
तुम A.C. घर मेँ रहती हो
मैँ पेड़ के नीचे लेटा हूँ
तुम नई मारुती लगती हो
मैँ स्कूटर लमरेटा हूँ
इस कदर अगर हम चुप-2 कर
आपस मेँ प्रेम बढ़ाएँगे
तो एक रोज तेरे डैडी
अमरीश पुरी बन जाएँगे
सब हड्डी पसली तोड़ मुझे
भिजवा देँगे वो जेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
तुम अरब देश की घोड़ी हो मैँ हूँ गदहे की नाल प्रिये तुम दीपावली का बोनस हो मैँ भूखोँ की हड़ताल प्रिये तुम हीरे जड़ी तश्तरी हो मैँ एल्मीनियम का थाल प्रिये तुम चिकन सूप बिरयानी हो मैँ कंकड़ वाली दाल प्रिये तुम हिरन चौकड़ी भरती हो मैँ हूँ कछुए की चाल प्रिये तुम चंदन वन की लकड़ी हो मैँ हूँ बबूल की छाल प्रिये मैँ पके आम सा लटका हूँ मत मारो मुझे गुलेल प्रिये मुश्किल है अपना मेल प्रिये ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये ~ मैँ शनि देव जैसा कुरूप तुम कोमल कंचन काया हो
मैँ तन से मन से क…