सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नूतन प्रभात की प्रथम अंशु का पावन आह्वान

कविवर आर्त की ये रचना हमें हर हाल में सकारात्‍मक सोंच रखने को प्रेरित करती है
पढिये- अच्‍छा लगेगा।
टिप्‍पणी जरूर करियेगा कि मै जान सकूं कि आपको ये रचना कैसी लगी।।


निर्मल पथ के धीर बटोही व्‍यथित ठहर मत जाना
जीवन है संग्राम अहो! फिर क्‍यूं, कैसा घबराना  ।।

कुश- कण्‍टकाकीर्ण मग दुस्‍तर मंजिल तक अनजाना
कानन विजन पन्‍थ श्रम संकुल तदपि न तुम उकताना
विपदाओं के वक्ष फाड नभ में निज निलय बनाना  ।।

बर्फीली चट्टानों में जो क्षुधित यामिनी जगते
जिन्‍हें तोप -गोलों के गर्जन मधुर गीतमय लगते
अनिमिष दृगों देखते जो निज गौरव स्‍वप्‍न सुहाना  ।।

विशद विपर्यय, विप्‍लव भी विचलित न जिन्‍हें कर पाते
विशिका, विशिष सेज पर भी जो श्रुति संदेश सुनाते
उन प्रचण्‍ड पुरूषार्थ- रतों को निज आदर्श बनाना  ।।

काल चक्र अविरल, अविजित, है उससे कौन बचा है ?
तदपि चतुर्दिक दम्‍भ, स्‍वार्थ, तृष्‍णा का रोर मचा है
नरशार्दूल! न विषयी श्‍वानों मध्‍य श्रेय विसराना  ।।

रह न गये जो चक्रवर्ति नृप त्रिभुवन जयी कहाये
अगणित भूपति, सन्‍त अन्‍त धरणी की क्रोड समाये
अन्तिम शरण मरण है बाउर! फिर किस पर इतराना  ।।

सम्‍वत् सहस विषय जो भोगे, क्‍या वे तृप्‍त हुए हैं  ?
शक्रादिक क्‍या त्रिविध ईशनाओं से मुक्‍त हुए हैं  ?
सुधी! अमृतमय अमलाम्‍बर के तुम विहंग बन जाना  ।।

अनृत, अमर्ष, अतुष्टि, अनय की अनी अनेक सजी है
साधु- असाधु बने सौदागर, क्‍या दुर्मति उपजी है
"आर्त" विश्‍व वाटिका प्रभू की, हो निर्लिप्‍‍त सजाना  ।।


कुछ कठिन शब्‍द समाविष्‍ट हैं, अवगत न होने पर टिप्‍पणी में लिखियेगा



--
ANAND

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)