सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नूतन प्रभात की प्रथम अंशु का पावन आह्वान

कविवर आर्त की ये रचना हमें हर हाल में सकारात्‍मक सोंच रखने को प्रेरित करती है
पढिये- अच्‍छा लगेगा।
टिप्‍पणी जरूर करियेगा कि मै जान सकूं कि आपको ये रचना कैसी लगी।।


निर्मल पथ के धीर बटोही व्‍यथित ठहर मत जाना
जीवन है संग्राम अहो! फिर क्‍यूं, कैसा घबराना  ।।

कुश- कण्‍टकाकीर्ण मग दुस्‍तर मंजिल तक अनजाना
कानन विजन पन्‍थ श्रम संकुल तदपि न तुम उकताना
विपदाओं के वक्ष फाड नभ में निज निलय बनाना  ।।

बर्फीली चट्टानों में जो क्षुधित यामिनी जगते
जिन्‍हें तोप -गोलों के गर्जन मधुर गीतमय लगते
अनिमिष दृगों देखते जो निज गौरव स्‍वप्‍न सुहाना  ।।

विशद विपर्यय, विप्‍लव भी विचलित न जिन्‍हें कर पाते
विशिका, विशिष सेज पर भी जो श्रुति संदेश सुनाते
उन प्रचण्‍ड पुरूषार्थ- रतों को निज आदर्श बनाना  ।।

काल चक्र अविरल, अविजित, है उससे कौन बचा है ?
तदपि चतुर्दिक दम्‍भ, स्‍वार्थ, तृष्‍णा का रोर मचा है
नरशार्दूल! न विषयी श्‍वानों मध्‍य श्रेय विसराना  ।।

रह न गये जो चक्रवर्ति नृप त्रिभुवन जयी कहाये
अगणित भूपति, सन्‍त अन्‍त धरणी की क्रोड समाये
अन्तिम शरण मरण है बाउर! फिर किस पर इतराना  ।।

सम्‍वत् सहस विषय जो भोगे, क्‍या वे तृप्‍त हुए हैं  ?
शक्रादिक क्‍या त्रिविध ईशनाओं से मुक्‍त हुए हैं  ?
सुधी! अमृतमय अमलाम्‍बर के तुम विहंग बन जाना  ।।

अनृत, अमर्ष, अतुष्टि, अनय की अनी अनेक सजी है
साधु- असाधु बने सौदागर, क्‍या दुर्मति उपजी है
"आर्त" विश्‍व वाटिका प्रभू की, हो निर्लिप्‍‍त सजाना  ।।


कुछ कठिन शब्‍द समाविष्‍ट हैं, अवगत न होने पर टिप्‍पणी में लिखियेगा



--
ANAND

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

अबकी बार योगी सरकार ।।

बेशर्मों की लगी कतार । अपना हित भी भूले यार ।
दूर करो घटिया सरकार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

आज प्रदेश करे चीत्कार ।
30 साल से हूँ बीमार ।
बसपा सपा हैं सिर पे सवार ।
अब इनको दीजै अपवार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

सपा है बाबर की औलाद ।
इसमें सारे हैं जल्लाद ।
हिन्दु विहगहिं हैं सैयाद ।
इनने राज्य किया बर्बाद ।
रोको अब इनका विस्तार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

भूल गए तुम वो प्रतिकार ।
कही थी एक तुच्छ एक बार ।
तिलक तराजू और तलवार ।
इनको मारो जूते चार ।
अब उस भैंस को डालो मार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

पहचानो अपना स्तर ।
हाथ उठालो खड्ग प्रखर ।
काटो हाथी का मस्तक ।
कर डालो साइकिल पंचर ।
खिले कमल हों दूर विकार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

आया है स्वर्णिम अवसर ।
इसे गवांना मत प्रियवर ।
आपस का छोडो मतभेद ।
जोड़ो जो हैं गए बिखर ।
यू पी मत बनने दो बिहार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

यह पथ इतना नहीं सरल ।
काँटों पर चलना पैदल ।
कीचड़ फेंकें प्रतिद्वंदी ।
पुष्पित उसमें करो कमल ।
"आनन्द" यही मिले उपहार ।
अबकी बार योगी सरकार ।।
बार-बार योगी सरकार ।। बार-बार योगी सरकार ।।

डॉ. विवेकानन्द पाण्डेय