सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ये रचना आप सभी ब्‍लागर्स को समर्पित है- टिप्‍पणी के रूप में अपने आशीर्वाद जरूर दीजियेगा

             ब्‍लाग जगत के सभी ज्‍येष्‍ठ ब्‍लागर्स को मेरी तरफ से अभिनन्‍दन के रूप में मै अपनी ये रचना यहां प्रस्‍तुत कर रहा हूं।
मैं आप सभी का आभारी हूं जिन्‍होंने मुझे समय समय पर अपनी टिप्‍पणियों के द्वारा मार्ग दर्शन दिया
ब्‍लाग जगत पर मेरे सफर की शुरूआत सन् 2009 में हुई पर सक्रिय न होने के कारण कोई खास पहचान न बन पाई
पहली बार जब भाई श्री मानिक जी ने मुझे स्‍वागत की टिप्‍पणी लिखी तो मैं भाव विभोर हो गया
तब से लेकर आज तक प्रयास यही रहा है कि आप सब को अपनी रचनाओं तथा अन्‍य कवियों की श्रेष्‍ठ रचनाओं द्वारा आनन्दित करता रहूं
अब ये आप तय करेंगे कि मै इसमें कहां तक सफल हो पाया हूं
ये रचना भाई श्री मानिक जी, जयराम विप्‍लव जी, बहन संगीता जी, श्री अजय कुमार जी, संजय जी, दीप श्रीवास्‍तव जी,आदरणीय सुमन जी , रौ शन जायसवाल जी  ब्‍लागवाणी के समस्‍त कार्यकर्ताओं, जनोक्ति
के सभी कार्यकर्ताओं,चिट्ठा जगत, भडास वाणी तथा उन सभी लोगों को समर्पित है जिनका सहयोग निरन्‍तर मुझे प्राप्‍त होता रहा। जो हैं तो मुझसे कहीं 
अच्‍छे लिखने वाले फिर भी मेरे ब्‍लाग को पढकर तथा मेरे ब्‍लाग का अनुसरण कर के मेरा मान बढाते रहे।
आप सभी को मेरा शत शत अभिनन्‍दन व धन्‍यवाद है तथा मेरा निवेदन है कि कृपया हर बार की तरह ही टिप्‍पणियों के रूप में अपना प्‍यार
व सहयोग अवश्‍य दें। 
         आपका - आनन्‍द पाण्‍डेय


चढ गई अपनी भी कीमत, बढ गया स्‍तर
दोस्‍तों ''आनन्‍द'' भी अब बन गया ब्‍लागर !!

खो गया था भीड में दुनिया की, ना था ज्ञान
ढूढता फिरता था अपने आप की पहचान
डगमगाती नाव थी टूटी हुई पतवार
डूब जाता मैं, न कर पाता ये सागर पार
हाथ थामा ब्‍लाग ने, खींचा किनारे पर
इस तरह ''आनन्‍द'' भी अब बन गया ब्‍लागर !!

कैसे हो शुरूआत अपनी बात लेखन की
ब्‍लाग पढ- पढ सीखा हमने ये तरीका भी
लग गये पढने मुझे भी लोग शिद्दत से
बस यही थी चाह अपनी यार मुद्दत से
कुछ बडे चिट् ठे भी मेरे बन गये रहबर
इस तरह ''आनन्‍द'' भी अब बन गया ब्‍लागर !!

दे रहा शुभकामना चिट्ठा जगत सारा
बन गया ''आनन्‍द'' भी अब आपका प्‍यारा
कर रहे सहयोग सब बनकर के इक परिवार
इस तरह से पा रहा मैं आप सब का प्‍यार
मिल गया फिर आज मुझको दोस्‍तों इक घर
इस तरह ''आनन्‍द'' भी अब बन गया ब्‍लागर !!


ब्लाग जगत की जय

टिप्पणियाँ

  1. Nice to see you as a blogger !

    Conrats !

    May heaven's choicest blessings be showered on you always !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब मत खो जाना....बढ़िया लिखा है....."

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस तरह ''आनन्‍द'' भी अब बन गया ब्‍लागर !!
    बहुत बढिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कर रहे सहयोग सब बनकर के इक परिवार
    इस तरह से पा रहा मैं आप सब का प्‍यार
    मिल गया फिर आज मुझको दोस्‍तों इक घर
    इस तरह ''आनन्‍द'' भी अब बन गया ब्‍लागर !!
    ... Apna ghar hi to blog jahan ham sabhi ek dusri se parichit hote chale jaaten hain aur yah ghar badhta jaata hai'' sayunkt pariwar ab lagbhag tut gayen hai lekin apna 'Blog Pariwar' Sayukt pariwaar ka roop lekar kabhi tutne wala nahi..
    Likhte rahiye hamari shubhkamnayne hain..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बस नियमित लिखते रहें और आगे बढ़ते रहें, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढिया रचना!
    सतत प्रयास ही सफलता की कुंजी है...लिखते रहिए..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस नियमित लिखते रहें और आगे बढ़ते रहें, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)