सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सोचो क्‍या खोया, क्‍या पाया?

कवि आर्त की ये रचना हमें हर पल ये ध्‍यान कराती है कि अपना पेट तो पशु भी पाल लेता है | अगर हम सिर्फ अपने तक ही सीमित रहे तो हममे और पशुओं मे क्‍या भेद रह जायेगा|
हमे अपने सुखों के साथ साथ ये भी देखना है कि कहीं हमारी विलासिता किसी के दुख का कारण तो नहीं बन रही
कहीं मानव मूल्‍यों से भटक तो नहीं गये है
और अगर एसा है तो ध्‍यान रहे वो अन्‍तर्यामी हमारी सारी गतिविधियां देख रहा है और हमारे हर एक पल का हिसाब लिख रहा है| जितना हम यहां करेंगे उतना हमें भरना भी पडेगा


सोचो क्‍या खोया, क्‍या पाया?

किन मूल्‍यों के बदले हमने एक संवत्‍सर और गवाया ?
कितने आपदग्रस्‍त जनों को सत्‍वर बढकर दिया सहारा ?
अबतक कितने असमर्थों, दुखियों का दूर किया दुख सारा ?
सृजनहार के चिन्‍तन में कब रूध्‍दकण्‍ठ दृगबिन्‍दु बहाये ?
अब तक कितने बार सुधी, विदुषों के संग दिन रैन बिताये ?
कितने संकट ग्रस्‍त मानवों का हमने संत्रास मिटाया ??
किन मूल्‍यों के बदले हमने.............................

क्‍या सन्‍मति की चाह त्‍यागकर सम्‍पति के ही रहे पुजारी ?
वित्‍त- वासना- लिप्‍त रहे नित, कर्म विमुख, हो मिथ्‍याचारी ?
उच्‍चाकांक्षाओं की वेदी पर कितने असहाय चढाये ?
सब कुछ लब्‍ध हो गया फिर भी मन- तुरंग; को चैन न आये ?
भोग असीम भोग कर भी परिमोषक मन को तोष न आया ||
किन मूल्‍यों के बदले हमने.............................

पिशुन, चाटु, परूषाक्षर के बल अकर्मण्‍य भी रहे सयाने
हम प्रबुध्‍द भी धन- बल- मत्‍तों के दुश्‍चरित लगे अपनाने
चिर अतृप्ति ही नियति बन गयी, कर्तब्‍यों से दूर हो गये
विश्‍व जागरण के ध्‍वज वाहक विषयी श्‍वानो मध्‍य खो गये
समय, श्‍वास की सीमित निधि को पंच वंचकों बीचा लुटाया
किन मूल्‍यों के बदले हमने.............................

छद्म धर्म का आलम्‍बन भी लिया भावनायें ठगने को
बने विरागी, सन्‍यासी भी निरा कर्म- पथ से भगने को ,
जग को देता सदुपदेश, वह भी विषयों का दास हो गया
भौतिकता की आंधी में जीवन- मूल्‍यों का ह्रास हो गया
सबको ज्ञान बाटने वाले, कभी स्‍वयं को भी समझाया ??
किन मूल्‍यों के बदले हमने.............................

जीवन क्‍यों, किससे कितना है? कभी किये क्‍या इस पर मन्‍थन ?
अपनों की किलकारी में क्‍या सुन पाये दुखियों के क्रन्‍दन ?
देकर दोष भाग्‍य को उनके, हम निष्‍ ठुर हो कुछ न कर सके ?
अपनी थाली से सतांश भी देकर भुक्षित उदर भर ?
जन्‍म- लक्ष्‍य से भटक गये हम, सोच, कभी क्‍या दिल भर आया ??
किन मूल्‍यों के बदले हमने.............................

ध्‍यान रहे- ईश्‍वर रखता हम सबके कर्मो का लेखा है |
रंक, महीप, मूढ, ज्ञानी -सबका प्रारब्‍ध- भोग देखा है
कालबली के दीर्घ, सशक्‍त करों से कहो कौन बच पाया ?
उस विभु की बलवती, छली माया ने किसको नहीं नचाया
''आर्त'' सुखी है जिसने शुभकृत्‍यों से अन्‍त: कलुष मिटाया
किन मूल्‍यों के बदले हमने.............................

कवि श्री अनिरूध्‍द मुनि पाण्‍डेय ''आर्त'' के ''आर्त भजन संग्रह'' से साभार

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)