सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

किसी अपने से दूर हो गये हैं या कोई बहुत अपना आपसे दूर हो गया है तो इसे जरूर पढियेगा


मेरी ये रचना उन दोस्‍तों को समर्पित है जिन्‍होंने अपने जीवन में कभी न कभी किसी से प्‍यार किया है और किसी कारण वश उनको अपने प्‍यार से दूर हो जाना पडा
उनको भी समर्पित है जिन्‍होंने प्‍यार भले न किया हो पर प्‍यार करने वालों का सम्‍मान दिया है
और उनको भी समर्पित है जो  प्‍यार का मतलब जानते हैं


इश्‍क का भूत जब बीमार के सिर चढता है
खयालों के खिलौने आशिके दिल गढता है

बिना इबादत किये ही फकीर बन जाता है
माशाअल्‍लाह । निगाहें यार की जो पढता है

घूट जामे मोहब्‍बत की चखी हमने है हुजूर
जितनी थोडी सी पियो उतना नशा चढता है

जमाना अपना भी था साथ जब वो थे मेरे
छोडो, अब बीती बातें कौन याद करता है

बन गये आज जिन्‍दा लाश उनकी ठोकर से
चोट कोई करे कितनी, क्‍या फरक पडता है

पास आने को उनसे हो गये हम उनसे दूर
सुना था हमने कि दूरी से प्‍यार बढता है ।।

ये रचना आपको कैसी लगी ये जरूर बताइयेगा
आपके प्रोत्‍साहन से मेरी कलम की ता‍कत बढती है
आप सभी को बहुत शुभकामनाएं और धन्‍यवाद

टिप्पणियाँ

  1. बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्‍यार के चक्‍कर में कभी पड़े तो नहीं फिर भी दुस्‍साहस करके रचना पढ़ ली। अच्‍छी है। ऐसे ही लिखते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बन गये आज जिन्‍दा लाश उनकी ठोकर से
    चोट कोई करे कितनी, क्‍या फरक पडता है

    पास आने को उनसे हो गये हम उनसे दूर
    सुना था हमने कि दूरी से प्‍यार बढता है ।।

    in panktoyon ne dil jeet liya bahut khoob...

    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही भावपूर्ण रचना.. शुभकामनाएं !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जमाना अपना भी था साथ जब वो थे मेरे
    छोडो, अब बीती बातें कौन याद करता है
    ....bilkul sahi.... beeti jahi bisar de, aage kee sudh ley...... never let your past interfere of present day life.....
    Nirantar likhte rehiye. hamari shubhkamnayne.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जमाना अपना भी था साथ जब वो थे मेरे
    छोडो, अब बीती बातें कौन याद करता है
    ....bilkul sahi.... beeti jahi bisar de, aage kee sudh ley...... never let your past interfere of present day life.....
    Nirantar likhte rehiye. hamari shubhkamnayne.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जमाना अपना भी था साथ जब वो थे मेरे
    छोडो, अब बीती बातें कौन याद करता है

    बन गये आज जिन्‍दा लाश उनकी ठोकर से
    चोट कोई करे कितनी, क्‍या फरक पडता है

    उत्तर देंहटाएं
  8. जमाना अपना भी था साथ जब वो थे मेरे
    छोडो, अब बीती बातें कौन याद करता है

    बन गये आज जिन्‍दा लाश उनकी ठोकर से
    चोट कोई करे कितनी, क्‍या फरक पडता है

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

अबकी बार योगी सरकार ।।

बेशर्मों की लगी कतार । अपना हित भी भूले यार ।
दूर करो घटिया सरकार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

आज प्रदेश करे चीत्कार ।
30 साल से हूँ बीमार ।
बसपा सपा हैं सिर पे सवार ।
अब इनको दीजै अपवार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

सपा है बाबर की औलाद ।
इसमें सारे हैं जल्लाद ।
हिन्दु विहगहिं हैं सैयाद ।
इनने राज्य किया बर्बाद ।
रोको अब इनका विस्तार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

भूल गए तुम वो प्रतिकार ।
कही थी एक तुच्छ एक बार ।
तिलक तराजू और तलवार ।
इनको मारो जूते चार ।
अब उस भैंस को डालो मार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

पहचानो अपना स्तर ।
हाथ उठालो खड्ग प्रखर ।
काटो हाथी का मस्तक ।
कर डालो साइकिल पंचर ।
खिले कमल हों दूर विकार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

आया है स्वर्णिम अवसर ।
इसे गवांना मत प्रियवर ।
आपस का छोडो मतभेद ।
जोड़ो जो हैं गए बिखर ।
यू पी मत बनने दो बिहार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

यह पथ इतना नहीं सरल ।
काँटों पर चलना पैदल ।
कीचड़ फेंकें प्रतिद्वंदी ।
पुष्पित उसमें करो कमल ।
"आनन्द" यही मिले उपहार ।
अबकी बार योगी सरकार ।।
बार-बार योगी सरकार ।। बार-बार योगी सरकार ।।

डॉ. विवेकानन्द पाण्डेय