सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हमें खुशियों भरा जीवन पसन्‍द नहीं आता ।।



मेरी इस रचना की अजीब बात सिर्फ ये है कि इसे लिखा तो गजल के अन्‍दाज में है पर इसमें मैने हिन्‍दी शब्‍दों का भी बहुतायत में प्रयोग किया है जो इस रचना के लालित्‍य को और भी बढा देते हैं।। 
दावा है हमारा कि हर पढने वाला एक बार अपने हृदय पर हांथ जरूर रखेगा या फिर ठन्‍डी आह जरूर लेगा।। 
तो पढिये और ''आनन्‍द'' की इस रचना का आनन्‍द लीजिये।। 




उन्‍हे रीता हुआ दामन पसन्‍द नहीं आता 
हमें खुशियों भरा जीवन पसन्‍द नहीं आता।।


 जरा धीरे से सिसक ऐ मेरे टूटे हुए दिल
 उन्‍हे दिल का करुण क्रन्‍दन पसन्‍द नहीं आता ।।

 चूडियों की खनक बेशक लुभाती है उनको 
जाने क्‍यूं हांथ का कंगन पसन्‍द नहीं आता ।।


हर तरह से उन्‍हें हक चाहिये हम पर लेकिन 
हमारे प्‍यार का बंधन पसन्‍द नहीं आता ।। 


उन्‍हें हर रंग से यारों बडी मोहब्‍बत है 
हमें पर साथियों फागुन पसन्द नहीं आता ।। 


जला देना हमें मरने के बाद गूलर से
न जाने क्‍यूं उन्‍हें चंदन पसन्‍द नहीं आता ।। 


खिजा में जीने की अब हो गर्इ है आदत सी 
हमें आबाद अब गुलशन पसन्‍द नहीं आता ।। 


चले जाएंगे तनही ही हम अपनी मंजिल तक 
हमारा साथ है उलझन, पसन्‍द नहीं आता ।। 


हारकर फिरसे लिखने लग गया ''आनन्‍द'' गजल 
उन्‍हे नीरस मेरा गायन पसन्‍द नहीं आता ।।


चन्‍द्रमा पर जल की खोज सर्वप्रथम भारतीय खगोलशास्‍त्री वाराहमिहिर नें की थी।।
इस विषय में अधिक जानने के लिये यहां उपर  क्लिक करें।।

टिप्पणियाँ

  1. आपने बड़े ख़ूबसूरत ख़यालों से सजा कर एक निहायत उम्दा ग़ज़ल लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर से प्रशंसनीय रचना - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. ग़ज़ल रुपी यह पोस्ट बहुत अच्छी लगी....

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी प्रस्तुती के लिए आपका धन्यवाद /

    उत्तर देंहटाएं
  5. वास्तव में आपने हृदय पर हाँथ रखने पर मजबूर कर दिया
    जरा धीरे से सिसक ऐ मेरे टूटे हुए दिल
    उन्‍हे दिल का करुण क्रन्‍दन पसन्‍द नहीं आता ।।
    उम्दा काम
    कलम के धनी है आप यू हीं लिखते रहिये

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)