सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SANSKRIT BHARTI-KALJAYI SANSTHA


laLd`r Hkkjrh&,d dkyt;h laLFkk

 

Hkkjr ,oa Hkkjrh; laLd`fr fo'o dh fdlh Hkh laLd`fr ,oa lH;rk ls izkphu gSaA tc fo'o esa fdlh Hkh lH;rk dh mRifRr Hkh ugha gqbZ Fkh ml le; gekjh laLd`fr dk o`{k iYyfor&iqf"ir gks pqdk FkkA ;g laLd`fr yk[kksa o"kksZa ls lrr izokgeku Fkh fd chp esa blh lukru /keZ ds dqN vuq;kf;;ksa us viuk vyx er izpkfjr fd;kA buesa egkRek cq) }kjk izpkfjr ckS) er lokZf/kd dkykas rd izHkko'kkyh jgkA bl er us lukru /keZ dks u"V djus ds fy;s rFkk osnksa ds fojks/k ds fy;s gh ekuks ladYi ys j[kk FkkA rdjhcu Ms<+ gtkj o"kksZa rd ckS) er iw.kZ izHkko esa jgkA ,d vfgald er gksus ds dkj.k bl er us lEiw.kZ Hkkjr esa gh ugha vfirq fo'o Hkj esa fgtM+ks dh ,d fo'kky  lsuk lh rS;kj dj nhA bldk ykHk fons'kh vkØkUrkvksa us Hkjiwj mBk;k vkSj Hkkjr dh fo'kky Hkwfe eqxyksa ds gkFk p<+ xbZA eqxyksa us Hkkjrh; lEifRr dk ftruk nksgu fd;k mlls vf/kd mUgksaus lukru /keZ dks u"V djus dk iz;kl fd;kA Hkkjrh; xzUFkksa dks u"V djuk] efUnjksa] nsoky;ksa ds lkFk&lkFk /keZ'kkykvksa rFkk f'k{kk ds dsUnzksa dks u"V djuk gh mudk izeq[k dk;Z jgkA

eqxyksa ds iz;kl dk jgk lgk dlj xksjksa us iwjk dj fn;kA eqxy rks Hkkjrh; laLd`fr dks u"V djus es ukdke jgs vkSj blh laLd`fr es cgqr gn rd jp ip x;s fdUrq vaxzstksa us leLr dkj.kkas dk vUos"k.k fd;k rFkk bl fu"d"kZ ij igqps fd tc rd Hkkjr esa laLd`r gS rc rd Hkkjrh; laLd`fr dk dksbZ Hkh dqN Hkh fcxkM+ ugha ldrk vr% loZizFke mUgksaus f'k{kk uhfr ifjofrZr fd;kA ykWMZ eSdkys us Hkkjr esa vaxszth f'k{kk dk izlkj fd;kA vUrr% mlus tks LoIu ns[kk Fkk og lp gksus yxkA vaxzsth f'k{kk us Hkkjrh;ksa ds eu dks cnyuk 'kq: dj fn;k vkSj ,d le; ,slk Hkh vk;k tc ge Hkkjrh; viuh laLd`r Hkk"kk ds izfr u dsoy mnklhu gq, vfirq gekjh /kkj.kk gh vaxzsth gks xbZA

;gka ls Hkkjrh; lH;rk dk iru izkjEHk gksus yxkA fdUrq ftl ekVh us foosdkuUn] lqHkk"k o 'kkL=h tSls egkRekvksa dks tuk mldk gzkl dSls gks ldrk FkkA Hkkjrh; laLd`fr o laLd`r Hkk"kk ds iqu#RFkku gsrq dbZ laLFkkvksa us NksVs&eksVs Lrj ij iz;kl izkjEHk dj fn;sA ij ;g iz;kl i;kZIr ugha Fkk vkSj ,slk yx jgk Fkk fd 'kk;n Hkkjrh; laLd`fr fons'kh laLd`fr esa fey dj viuk izHkko rFkk vfLrRo [kks nsxh fdUrq rHkh yxHkx 1980 ds n'kd esa ek Hkkjrh ds ,d liwr us laLd`r dh deku lEHkky yhA laLd`r Hkkjrh& gka ;gh uke gS bl laLFkk dk ftlus vkt Hkkjr es gh ugha vfirq lEiw.kZ fo'o esa laLd`r dk >aMk xkM+ fn;k gSA bl laLFkk ds laLFkkid egkRek Jh pewd`".k 'kkL=h th us viuk lEiw.kZ thou gh ek Hkkjrh ds lsokFkZ lefiZr dj fn;kA

vkt lEiw.kZ Hkkjr esa 5 xkao laLd`r xkao gSaA yk[kkas ?kj laLd`r ?kj gks pqds gSaA djksM+ks yksx laLd`r dks vius nSfud thou esa viuh ek=`Hkk"kk dh rjg iz;ksx djus yxs gSaA laLd`r Hkkjrh gj o"kZ yk[kkas yksxksa dks laLd`r cksyus dk izf'k{k.k fu%'kqYd nsrh gSA blds dk;ZdrkZ fu%LokFkZ Hkkouk ls lHkh dks laLd`r dk izf'k{k.k nsrs gSaA

vkb;s ge lc ladYi ysa laLd`r ds mRFkku ds fy;s ge ;Fkk lEHko iz;Ru djsaxs rFkk de ls de ,d O;fDr dks laLd`r Hkk"kk ds izf'k{k.k gsrq izksRlkgu nsaxsA

 

laLd`rL; izlkjk; uSta loZa nnkE;ge~AA

 

onrq laLd`re~ t;rq Hkkjre~

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)