सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

SRI SRINGIRISHI DHAM

e;kZnkiq#"kksRre Hkxoku Jhjke dh dFkk rks lquh gksxh vkiusA v;ks/;k ds jktk n'kjFk ds T;s"B iq= ftUgksaus jko.k tSls egkcy'kkyh jk{kl dk o/k fd;k FkkA mudh mRifRr ds ckjs es Hkh tkurs gh gksaxsA egkjkt n'kjFk us iq=sf"V ;K djk;k Fkk] vfXu nso us izdV gksdj fnC; p: izlkn :i esa fn;kA rhuksa jkfu;ksa us izlkn xzg.k fd;k o pkj iq=kas dks tUe fn;kA lcls cM+s Jhjke] fQj Øe'k% Hkjr ] y{e.k o 'k=q?uA

bruh dFkk izk;% ge lc tkurs gSa fdUrq D;k vki mu egkRek dk uke Hkh tkurs gSa ftUgksaus egkjkt n'kjFk dk iq=sf"V ;K djk;k Fkk \ oks Fks egf"kZ J`axh_f"kA Hkxoku Jhjke pUnz dks gj dksbZ tkurk gS ij ge es ls vf/kdrj yksx 'kk;n egf"kZ J`axh_f"k dk uke rd u tkurs gksaA

vkb;s vkidks ifo= egf"kZ Ja`xh_f"k /kke dk n'kZu djkrs gSa&

 

v;ks/;k ls yxHkx 35 fd0eh0 iwoZ&mRrj fn'kk esa ifo= unh lj;w ds fdukjs clk gS ;g ikou /kke J`axh_f"k


 

;g gS ifo= lj;w unh dk ,d fogaxe n`";A&1

 

blh unh ds fdukjs clk gS fnO; J`xh_f"k vkJe

 

 


 

;g gS egf"kZ J`xh_f"k dh xqQk dk eq[; }kj tgk¡ fofHkUu frfFk;ksa ij vikj tu leqnk; n'kZu ds fy;s bdV~Bk gksrk gSA ;g LFkku ftruk jE; gS mruk gh fl) HkhA ;gk¡ ij vkdj eqjknsa ekxus okyk vkt rd dHkh [kkyh gkFk ugha YkkSVkA

 

 

&2

 

;g xHkZx`g gS tgk¡ egf"kZ J`axh_f"k dk feV~Vh dk fi.M LFkkfir gSA ;gk¡ lcls T;knk pkSadkus okyh ckr ;g gS fd ;g feV~Vh dk foxzg lfn;ksa ls blh :i esa gS vkSj vkt rd bldk vkdkj u rks dHkh ?kVk gS u gh c<+k gSA ;g vius blh :i esa lfn;ksa ls ;Fkkor cuk gSA

     ;gk¡ jgus okys yksx crkrs gS fd tkus dc ls ;g xqQk gSA igys rks dsoy ;g xqQk gh Fkh ij vc rks dkQh fodkl gks pqdk gSA dbZ efUnj vkSj cu x;s gSaA ;g LFky QStkckn ftys ds eq[; i;ZVu LFkyksa es ls ,d gSA

;gk¡ ds lcls izkphu efUnjksa es ls Hkxoku f'ko dk efUnj] Jh jke tkudh efUnj rFkk Jh guqeku th dk efUnj gSA vU; efUnjksa esa ek¡ nqxkZ efUnj] Jh jk/ks d`".k efUnj vkSj vU; dbZ efUnj gSaA

 

Jh f'ko efUnj

&3

 

Jh jketkudh efUnj

&4

    

Jh guqeku efUnj

&5

 

;gk¡ ds eq[; egUr Jh txnh'k nkl th gSa tks cM+s gh fouez LoHkko ds gSaA vkt ds bl <+ksxh ifjos'k esa Hkh ;fn lPpk lUr ns[kuk gks rks ckck txnh'k nkl th ls csgrj fodYi 'kk;n u feysA

 

egUr Jh txnh'k nkl th

&6

 

;gk¡ dk izka¡xM+ vfr fo'kky gS tgk¡ igys dbZ rjg ds o`{k Fks ij vc T;knkrj fxj pqds gSaA ij LFkkuh; yksxksa us dqN u;s ikS/ks yxk;s gSaA

 

LFkkuh; dfo;ksa us bl LFkku dks ysdj cgqr lkjh jpuk,¡ Hkh dh gSa fdUrq /kukHkko es rFkk izksRlkgu u feyus ds dkj.k oks vkl ikl ds xk¡oksa rd gh lhfer gSaA bu dfo;ksa es eq[;r% dfo vfu#)eqfu ik.Ms; *vkrZ* ¼bZ'kiqj½] Jh n;kjke frokjh th *iq"i* vkfn gSaA

     vkJe dh ns[k&js[k esa vkl&ikl ds xk¡o ftuesa eq[;r% bZ'kiqj] 'ksjok?kkV] lqtkuiqj] xksfoUniqj vkfn gSaA

     ;g LFkku cgqr fl) ekuk tkrk gSA dgrs gSa ;fn bl LFkku ij dksbZ lPps fny ls nqvk ek¡xrk gS rks mldh ek¡x 'kh?kz gh iwjh gksrh gSA  ;gk¡ ds lUrksa es fn[kkok uke dh pht ugha gS vkSj izlkn uke ij ;s yksxksa dks ywVrs Hkh ugha gSA HkfDr Hkko ls dsoy egf"kZ ds n'kZu djus ls gh lHkh dkeukvksa dh iwfrZ gks tkrh gSA



--
ANAND

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)