सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत का पहला ब्‍लाग।।


मुझे ब्‍लागजगत पर लिखते त‍था चिट्ठे पढते हुए काफी समय हो गया। इस दौरान मैने लगभग हर भाषा में ब्‍लाग देखे तथा उनमें से जो पढ सकता था पढा भी।
किन्‍तु अबतक मुझे कोई भी ब्‍लाग ऐसा नहीं मिला जो पूर्णतया संस्‍कृत में हो।  हां कुछ ब्‍लाग आंशिक रूप से संस्‍कृत में जरूर मिले जिनमें बहुत महत्‍वपूर्ण सामाग्रियां भी प्राप्‍त हुईं।  कुछ में अच्‍छे मन्‍त्रों का संकलन मिला तो कुछ में मंगल श्‍लोक प्राप्‍त हुए। मगर इसके बावजूद भी कोई भी ब्‍लाग ऐसा नहीं मिला जिसके लेखन का माध्‍यम भी संस्‍कृत ही हो तथा सामाग्रियां भी संस्‍कृत में ही हो जैसा कि हिन्‍दी ब्‍लाग, अंग्रेजी ब्‍लाग तथा अन्‍य भाषाओं के ब्‍लागों पर है।
यह सोंचकर बहुत ही क्‍लेश हुआ। ऐसा नहीं है कि हमारे समाज में या हमारे ब्‍लाग परिवार में कोई भी संस्‍कृत का ज्ञाता नहीं है। मैने अपने ब्‍लाग पर जिनकी प्रतिक्रियाएं प्राप्‍त की हैं उनमें से अधिकांश ने संस्‍कृत में ही टिप्‍पणियां दी हैं जिससे लगता है कि संस्‍कृत में लिख सकने वालों की भी कमी नहीं है। पर फिर भी संस्‍कृत के विषय में इतनी उदासीनता क्‍यूं है यह बात मेरी समझ में अबतक नहीं आ पा रही है।

      खैर जो भी हो , विद्वानों की बातें तो विद्वान ही जानें । मैं तो एक अदना सा व्‍यक्ति हूं जो संस्‍कृत के प्रति अगाध श्रद्धा रखता है त‍था थोडा सा ज्ञान भी किन्‍तु ये ज्ञान इतना अल्‍प है कि विदुषों की नजर से बच नहीं सकता। पर फिर भी इनके हृदय की विशालता तो देखिये , मुझ जैसे अल्‍पज्ञ का उत्‍साह बढाने में कोई भी कमी नहीं रखी है।

        मैं आप सबका आभारी हूं जिन्‍होंने संस्‍कृत के पहले ब्‍लाग को इतना अधिक प्‍यार दिया कि मुझे संस्‍कृत का भविष्‍य अभी से उज्‍ज्‍वल दिखने लगा है।
आशा है आप सब का प्‍यार यूं ही मिलता रहेगा जिससे मेरी संस्‍कृत विषयक श्रद्धा तथा संस्‍‍कृत भाषा को जनभाषा बनाने के प्रयास को गति तथा दिशा मिलेगी।
      आप लोगों को आमन्त्रित करता हूं संस्‍कृत भाषा के पहले ब्‍लाग पर। http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ इस लिंक पर क्लिक करके संस्‍कृत के पुनरूत्‍थान में कृपया अपना थोडा सा सहयोग दीजिये।
           इस ब्‍लाग के विषय में टिप्‍पणियों द्वारा अपने विचारों से अवगत करायेंगे तो मेरे इस प्रयास को और भी बल मिलेगा।

आपकी श्रद्धा एवं सहयोग के लिये धन्‍यवाद

आपका आनन्‍द

टिप्पणियाँ

  1. आपके इस सुन्दर और संदेशात्मक रचना की जितनी तारीफ की जाय कम है / आपके इस प्रयास के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद / ब्लॉग हम सब के सार्थक सोच और ईमानदारी भरे प्रयास से ही एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित हो सकता है और इस देश को भ्रष्ट और लूटेरों से बचा सकता है /आशा है आप अपनी ओर से इसके लिए हर संभव प्रयास जरूर करेंगे /हम आपको अपने इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर देश हित में १०० शब्दों में अपने बहुमूल्य विचार और सुझाव रखने के लिए आमंत्रित करते हैं / उम्दा विचारों को हमने सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / पिछले हफ्ते अजित गुप्ता जी उम्दा विचारों के लिए सम्मानित की गयी हैं /

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

अबकी बार योगी सरकार ।।

बेशर्मों की लगी कतार । अपना हित भी भूले यार ।
दूर करो घटिया सरकार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

आज प्रदेश करे चीत्कार ।
30 साल से हूँ बीमार ।
बसपा सपा हैं सिर पे सवार ।
अब इनको दीजै अपवार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

सपा है बाबर की औलाद ।
इसमें सारे हैं जल्लाद ।
हिन्दु विहगहिं हैं सैयाद ।
इनने राज्य किया बर्बाद ।
रोको अब इनका विस्तार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

भूल गए तुम वो प्रतिकार ।
कही थी एक तुच्छ एक बार ।
तिलक तराजू और तलवार ।
इनको मारो जूते चार ।
अब उस भैंस को डालो मार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

पहचानो अपना स्तर ।
हाथ उठालो खड्ग प्रखर ।
काटो हाथी का मस्तक ।
कर डालो साइकिल पंचर ।
खिले कमल हों दूर विकार ।
यू पी में योगी इस बार ।।

आया है स्वर्णिम अवसर ।
इसे गवांना मत प्रियवर ।
आपस का छोडो मतभेद ।
जोड़ो जो हैं गए बिखर ।
यू पी मत बनने दो बिहार ।
अबकी बस योगी सरकार ।।

यह पथ इतना नहीं सरल ।
काँटों पर चलना पैदल ।
कीचड़ फेंकें प्रतिद्वंदी ।
पुष्पित उसमें करो कमल ।
"आनन्द" यही मिले उपहार ।
अबकी बार योगी सरकार ।।
बार-बार योगी सरकार ।। बार-बार योगी सरकार ।।

डॉ. विवेकानन्द पाण्डेय