सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

धीरे बोलिये, दीवार के भी कान होते हैं ।


हम जब भी किसी की कानाफूसी कर रहे होते हैं या कोई ऐसी बात कर रहे होते हैं जिसे हम अपने तक ही सीमित रखना चाहते हैं तो हम कितने मंद स्‍वर में बात करते हैं इसका अनुभव आप सब का होगा ही ।
अब ऐसी परिस्थिति में जब आप परम एकांत में ही क्यूँ न बात कर रहे हों या किसी ऐसी काल कोठरी में जिसके कि बाहर आवाज का जाना असम्‍भव हो तब भी इस तरह की गूढ बातें करते समय जब सामने वाला थोडी तेज आवाज में बात करने लगता है तो त्‍वरित ही आपके मुख से अनायास ही निकल जाता है - भाई जरा धीरे बोलो क्‍यूँकि दीवालों के भी कान होते हैं ।

अब सच बताइयेगा इस वाक्‍य को बोलने से पहले क्‍या आप एक भी बार कुछ भी सोंचते हैं-
मसलन यह बात किसने सबसे पहले कही । इस विचार का आविष्‍कार सबसे पहले किस देश में हुआ । 
या यह लैटिन और फ्रेच के फला शब्‍दों से मिलकर बना है जिसका अर्थ फला है ।
नहीं न , 
इसीलिये तो ये सूक्ति आज भी शत प्रतिशत भारतीय है।
अन्‍यथा अगर कहीं इसपर भी कोई समाजशास्‍त्री या तर्कशास्त्री की नजर पड जाती तो आज यह उक्ति भी विदेशों द्वारा प्रतिपादित बता दी जाती ।
जैसा कि समाजशास्‍त्र अंग्रेजी के शब्‍द सोसियोलाजी का हिन्‍दी रूपान्‍तरण है और ये लैटिन के दो शब्‍दों सोसियस और लोगस से मिलकर बना है । इसका सर्वप्रथम प्रयोग आगस्‍ट काम्‍टे ने किया वगैरह वगैरह ;;;;;;
पर शुक्र है इसपर अभी तक किसी भी आगस्‍टकाम्‍ट की नजर नहीं पडी ।

अब आज पहली बार आप ये सोचने को थोडा सा मजबूर हुए होंगे कि वाकई इतनी प्रसिद्ध और प्रासंगिक उक्ति को सबसे पहले किसके अनुभव ने समाज को दिया होगा ।
किस ब्‍यक्ति ने इतनी दूर तक सोंच कर बताया होगा कि दीवारों या जमीन के भी कान होते हैं अत: गोपनीय बातें धीरे ही बोलिये ।

चलिये आपको बताता हूँ 
ये उक्ति एक वैदिक सूक्ति है 
इस सूक्ति का सर्वप्रथम प्रयोग हमारे पवित्र वेदचतुष्‍टय में से गानपरक सामवेद के आरण्‍यक भाग में किया गया है ।
सामवेद के जैमिनिशाखीय जैमिनीयब्राह्मण में यह एक श्‍लोक के रूप में उद्धृत है ।
मोच्‍चैरिति होवाच कर्णिनि वै भूमिरिति 
जिसका भावार्थ है -
उँचे मत बोलो, भूमि के भी कान होते हैं ।

यह वाक्‍य आज भी कितना चरितार्थ है यह कहने की आवश्‍यकता नहीं है । आप सब स्‍वयं जानते हैं ।
ऐसी ही हजारों उक्तियाँ जो बाद में दुनिया भर के लोगों ने अपने नाम से लिखवा लीं, वो सब वेदों से ही ली गई हैं । पर संस्‍कृत का सम्‍यक अध्‍ययन न होने के कारण हम आज भी अपने उस अपार ज्ञान भण्‍डागार से वंचित हैं ।
और हमारे सारे ज्ञान का पूरा उपयोग ये विदेशी कर रहे हैं और हमें ही चिढा रहे हैं ।

सच में ये कितनी बडी विडम्‍बना है , है न !


टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)