सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

February, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

होली फाग एवं मनहरवा - कवि आर्त के स्‍वर में ।

मित्रों
होली बिलकुल सन्निकट ही है ।  इस मौसम में सबसे अधिक जो वस्‍तु प्रचलित है वह है फाग गीत तथा मनहरवा (मतवाला) ।  इस मामले में फैजाबाद जिला (उत्‍तरप्रदेश) काफी समृद्ध है ।  फाग विधा के प्रसिद्ध कविराज स्‍व. श्री रामराज जी, कवि स्‍व. श्री रामउजागिर पाण्‍डेय जी, स्‍व. कविवर श्री श्‍याम जी, कविश्रेष्‍ठ श्री पुष्‍प जी, कविवर श्री अनिरुद्धमुनि पाण्‍डेय 'आर्त' आदि फागविधा के श्रेष्‍ठ कवि इसी फैजाबाद जिले की देन हैं ।  इन कवियों का फाग विधा में कोई सानी नहीं है ।  इन कवियों में रामराज जी, रामउजागिर जी तथा कविवर श्‍याम जी तो इस धरा धाम को त्‍याग चुके हैं, पुष्‍प जी अत्‍यन्‍त वृद्ध हो जाने के कारण गायन में सक्षम नहीं रहे तथा अन्‍य कुछ कवियों के नाम व रचनाएँ तो प्राप्‍त होती हैं किन्‍तु उनके विषय में अत्‍यधिक जानकारी प्राप्‍त नहीं हो सकी ।
      इन सभी कवियों के प्रतिनिधि कवि सम्‍प्रति कवि आर्त ही हैं जो इनके काव्‍यों का गायन, तथा प्रसार करते रहते हैं ।  यहाँ नीचे के वीडियो चित्रों में कवि आर्त विभिन्‍न मुद्राओं में दिखाई दे रहे हैं ।  ये वीडियोज काफी पुराने हैं, इन्‍हें हमने हाल ही…