सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुश्किल है अपना मेल प्रिये



मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये



तुम M.A. फर्स्ट डिवीजन हो
मैँ हुआ मैटरिक फेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
तुम फौजी अफसर की बेटी
मैँ तो किसान का बेटा हूँ
तुम रबड़ी खीर मलाई हो
मैँ तो सत्तू सपरेटा हूँ
तुम A.C. घर मेँ रहती हो
मैँ पेड़ के नीचे लेटा हूँ
तुम नई मारुती लगती हो
मैँ स्कूटर लमरेटा हूँ
इस कदर अगर हम चुप-2 कर
आपस मेँ प्रेम बढ़ाएँगे
तो एक रोज तेरे डैडी
अमरीश पुरी बन जाएँगे
सब हड्डी पसली तोड़ मुझे
भिजवा देँगे वो जेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
तुम अरब देश की घोड़ी हो
मैँ हूँ गदहे की नाल प्रिये
तुम दीपावली का बोनस हो
मैँ भूखोँ की हड़ताल प्रिये
तुम हीरे जड़ी तश्तरी हो
मैँ एल्मीनियम का थाल प्रिये
तुम चिकन सूप बिरयानी हो
मैँ कंकड़ वाली दाल प्रिये
तुम हिरन चौकड़ी भरती हो
मैँ हूँ कछुए की चाल प्रिये
तुम चंदन वन की लकड़ी हो
मैँ हूँ बबूल की छाल प्रिये
मैँ पके आम सा लटका हूँ
मत मारो मुझे गुलेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
मैँ शनि देव जैसा कुरूप
तुम कोमल कंचन काया हो
मैँ तन से मन से काँशीराम
तुम महा चंचला माया हो
तुम निर्मल पावन गंगा हो
मैँ जलता हुआ पतंगा हूँ
तुम राजघाट का शाँति मार्च
मैँ हिँदू मुस्लिम दंगा हूँ
तुम हो पूनम का ताजमहल
मैँ काली गुफ़ा अजंता की
तुम हो वरदान विधाता का
मैँ गलती हूँ भगवंता की
तुम जैट विमान की शोभा हो
मैँ बस की ठेलम ठेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
तुम नई विदेशी मिक्सी हो
मैँ पत्थर का सिलबट्टा हूँ
तुम AK सैँतालिस जैसी
मैँ तो एक देसी कट्टा हूँ
तुम चतुर रावड़ी देवी सी
मैँ भोला भाला लालू हूँ
तुम मुक्त शेरनी जंगल की
मैँ चिड़ियाघर का भालू हूँ
तुम व्यस्त सोनिया गाँधी सी
मैँ वी.पी. सिँह सा खाली हूँ
तुम हँसी माधुरी दिक्षित की
मैँ पुलिसमैन की गाली हूँ
कल जेल अगर हो जाए तो
दिलवा देना तुम बेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
मैँ ढाबे के ढाँचे जैसा
तुम पंच सितारा होटल हो
मैँ महुए का देसी ठर्रा
तुम रेड लेबल की बोतल हो
तुम चित्रहार का मधुर गीत
मैँ कृषिदर्शन की झाड़ी हूँ
तुम विश्वसुंदरी सी कमाल
मैँ तेलिया छाप कबाड़ी हूँ
तुम सोनी का मोबाइल हो
मैँ टेलीफ़ोन वाला चोँगा
तुम मछली मानसरोवर की
मैँ सागर तट का हूँ घोँघा
दस मंज़िल से गिर जाऊँगा
मत आगे मुझे ढकेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
तुम सत्ता की महारानी हो
मैँ विपक्ष की लाचारी हूँ
तुम हो ममता जयललिता सी
मैँ क्वारा अटल बिहारी हूँ
तुम तेँदुलकर का शतक प्रिये
मैँ फ़ॉलोऑन की पारी हूँ
मुझको रेफरी ही रहने दो
मत खेलो मुझसे खेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये
~
मैँ सोच रहा कि रहे हैँ कबसे श्रोता मुझको झेल प्रिये
मुश्किल है अपना मेल प्रिये
ये प्यार नहीँ है खेल प्रिये



जाने किसकी रचना है मित्रों
फेसबुक पर पढी, अच्‍छी लगी इसीलिये प्रकाशित कर दिया हूँ ।  किसी की भी आपत्ति पर हटा दी जाएगी ।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)