सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

देखो आयो रे बजरंगबली



बधाइयाँ जी बधाइयाँ
घर में लाला भयो है

आप सोच रहे होंगे मै किसके जन्मदिन की बात कर रहा हूँ

थोडा दिमाग लगाइए 
नहीं याद आया 
अजी अपने हनुमान लला का जन्मदिन है आज
चलिए आज श्री हनुमान जी के जन्मदिन पर उनके बचपन की एक खूबसूरत कहानी सुनाता हूँ


भगवान शिव के अंश और पवन देव के वेग से युक्त होने के कारन श्री हनुमंत लाल बचपन से ही अत्यंत बलशाली थे और बन्दर जाती में उत्पन्न होने के कारण स्वाभाविक चंचलता भी थी उनमे अतः वो प्रायः बालसुलभ क्रीडाएं करते रहते थे जिससे कभी कभी बड़ी समस्याएं भी पैदा हो जाया करती थीं
श्री बाल  हनुमान प्रायः ऋषियों के आश्रम में जाया करते थे और कभी उनके वस्त्र तो कभी घर की  अन्य वस्तुएं  उठा कर आकाश में जोर से उछाल  दिया करते थे.... जो चीज एक बार हवा में चली जाती थी वो वापस लौट कर धरती पर नहीं आती थी 
कभी कभी तो वो ऋषियों की कुटिया को ही एक जगह से उठा कर दूसरी जगह पर रख दिया करते थे
एक बार एक ऋषि एक बड़े वट वृक्ष के नीचे तप कर रहे थे जब बाल हनुमान ने पूरे वृक्ष को पर्वत के बड़े भाग सहित उखाड़  लिया और हवा में उड़ चले
काफी ऊंचाई पर पहुच जाने पर हवा के वेग के कारन मुनि का ध्यान भंग हो गया
उन्होंने खुद को आकाश में लटके हुए पाया
मुनि बहुत क्रोधित हुए
उन्होंने श्री हनुमान जी को उनका सारा बल भूल जाने का शाप दे डाला
घर आने पर हनुमंत बहुत शांत बैठे थे
उनको इस तरह बैठे देख माँ चिंतित हो गई और कारणों का पता लगाया
मुनि के शाप के विषय में जानकर वो घबरा गई
उन्होंने मुनि से याचना की 
द्रवित हो मुनि ने शाप में सुधार  किया
जब कोई इनके बल का ध्यान  कराएगा तो इन्हें अपना बल याद आ जाएगा 

जब माता सीता की खोज में मार्ग में  100 योजन का समुद्र पार करने की बात चली तो सबो ने अपनी छमता का वर्णन किया पर हनुमंत लाल चुप बैठे रहे
उनका ये भेद रीछराज  जाम्बवंत जानते थे अतः उन्होंने हनुमान जी को उनका बल याद कराया और आगे आप सब जानते ही हैं की कैसे  सौ योजन का समुद्र उन्होंने एक छलांग में पार कर लिया और माँ सिया की खोज कर लंका का दहन किया और रावन के साथ हुए घमासान में कितनो को यमलोक पहुचाया


इस तरह से श्री हनुमान जी के जन्मदिन के खाश मौके पर हमने उनके बचपन की रोचक वार्ता सुनी
अब चलो हनुमंत लला का जन्मदिन तो मना लें


श्री हनुमते नमः

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)