सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नव वर्ष पर कवि आर्त की शुभकामनाएँ इस सरस काव्‍य के माध्‍यम से ..........



अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम......                                ०१/०१/१२

सृष्टिकर्ता की अनूपम कृति, अमित क्षमता समाहित
धरा-नभ-पाताल में गतिमान नित परहित समर्पित
उदयगिरि पर सूर्य सम अविरल सतत उत्‍थानरत, पर
प्रकृति के शत सहज दुर्बलताओं की पहचान हैं हम ........
अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम ।।
साहसी इतने कि हिमगिरि में भी पथ आसान कर दें
उद्यमी ऐसे कि सागर-मध्‍य गृहनिर्माण कर दें
परहितार्थ अगस्त्‍य सम नि:शेष सागरपान कर लें
विश्‍व में सुख-शान्ति के रक्षार्थ तन बलिदान कर दें
विविधगुण-गण-निलय, तदपि यथार्थ से अनजान हैं हम .........
अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम ।।
राष्‍ट्र-हित बनकर प्रताप, शिवा लिखें गौरव कहानी
लोक-मंगल हेतु नित तत्‍पर रहें मन-कर्म-बानी
मार्ग मम अनिरुद्ध ज्‍यों पावस में हो दरिया तूफानी
शौर्य वह आजाद का जिसने कभी न हार मानी
धरा पर उस परम सत्‍ता की सजग सन्‍तान हैं हम ............
अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम ।।
उटज से बढता चला नभयान तक उपक्रम हमारा
ज्ञान और विज्ञान से मापा है ये ब्रह्माण्‍ड सारा
किया सतत-प्रयास हमनें  मोडने को युग की धारा
लब्धि अनगिन, पर रहा चिर-क्षुधित मन बेबस बेचारा
इस निरापद-प्रगति के आधारहीन वितान हैं हम.............
अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम ।।
बालपन से ही फिसलकर सम्‍भलना जग ने सिखाया
कपट-स्‍वार्थ मदान्‍धता का पंथ अपनो ने दिखाया
तृषित अन्‍त:-करण को अबतक न मिल पाया अभीप्सित
निशा-अंचल में भी मन नित रहा क्षुब्‍ध, अशान्‍त, चिन्तित
स्‍वयं के अवनति-प्रगति का दर्दमय आख्‍यान हैं हम ............
अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम ।।
हम मनुज, दौर्बल्‍य के पुतले, तनिक में फूलते हैं
गर्व-गिरि आरूढ हो, अपना-पराया भूलते हैं
अनिरुद्धमुनि पाण्‍डेय ‘आर्त’
शाखा प्रबन्‍धक, ब.उ.प. ग्रा. बैंक, किछौछा
 अम्‍बेडकरनगर
http://www.kavyam.co.in/
 
श्‍वाँस की पूँजी हमारी नियति नि‍ष्‍ठुर की धरोहर
तदपि नित्‍य प्रपंच-रत पातक-हिण्‍डोले झूलते हैं
वेदनामय ‘आर्त’ के मुख की मलिन मुस्‍कान हैं हम .............
अन्‍तत: इन्‍सान हैं हम ।।

अनिरुद्धमुनि पाण्‍डेय ‘आर्त’
शाखा प्रबन्‍धक, ब.उ.प. ग्रा. बैंक, किछौछा
 अम्‍बेडकरनगर
http://www.kavyam.co.in/


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)