सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

फिर वही ढाक के तीन पात



आज-कल के अखबार में प्राय: दो मुद्दे नियमित मिल जाते हैं । एक तो कसाब के प्रति राजनीतिकों की राजनीति का विषय और दूसरा भारत-पाकिस्‍तान वार्ता । इन दोनों ही मुद्दों पर भारतीयों की राय लगभग एक जैसी ही है । कोई भी सच्चा भारतीय ये नहीं चाहता कि किसी भी कीमत पर अजमल कसाब को किसी भी कीमत पर जीवन दान दिया जाए और मेरे मत से अब कोई भी भारतीय पाकिस्‍तान से वार्ता भी नहीं चाहता । चाहे भी क्‍यूं, एक तो वह है जिसने हमारे कितने ही भाइयों को मारा और अभी भी जेल में मजे कर रहा है और दूसरा इन जैसों का भारत के प्रति उत्‍पादन करने वाला देश है ।
कितनी ही बार भारत ने पाकिस्‍तान से बात का विकल्‍प खुला रखा, बातें हुई भी पर फिर वही ढाक के तीन पात  न कभी पाकिस्‍तान ने सीमा पार से आतंकवाद कम किया और न ही कश्‍मीर की मांग छोडी । हद तो तब हो गई जब मुंबई हमले के आरोपियों पर कार्यवाही करने के बदले उसने उल्‍टे ही कई आरोप भारत के ही सिर मढ दिये ।
अब इसे देश का दुर्भाग्‍य ही कहेंगे कि हमारे वरिष्‍ठ नेताओं को आज भी पाकिस्‍तान से उम्‍मीदें हैं । कुत्‍ते की जो पूंछ आज तक सीधी न हो सकी उसे ये सीधा करके ही छोडेंगे । जाने कब हम जगेंगे इस गलतफहमी की नींद से । आज पाकिस्‍तान, अमेरिका और चीन तीनों ही भारत का अहित करने की ताक में रहते हैं और मुश्किल हमारी ये है कि हम तो ठहरे गांधीवादी, न तो हम किसी को मारेंगे न ही किसी की मार का उत्‍तर देंगे । आखिर हम अहिंसक हैं, गर कोई एक थप्‍पड मारेगा तो हम दूसरा गाल भी दे देंगे । उसके हांथों मे गर हमें मारते समय दर्द हुआ तो हम उसे एक बढियां सा डन्‍डा दे देंगे । सब करेंगे पर सुधरेंगे नहीं ।

हमारे एक तरफ पाकिस्‍तान, एक तरफ बाग्‍लादेश और एक तरफ चीन- ये तीन देश हैं । बांग्‍लादेश की तो कह नहीं सकता पर बाकी ये दो देश हमारा भला तो नहीं ही चाहते । पाकिस्‍तान और चीन के रवैये से कोई भी नावाकिफ नहीं है। फिर जबकि हम जानते हैं कि पा‍क से सदियों तक भी गर बात जारी रखी जाए तो भी कुछ हांथ आनेवाला नहीं है तो फिर क्‍युं हम बार-बार पाक की बात मान लेते हैं ।

क्‍या हम इतने मजबूर है || अपनी आवाज उठाइये इसके पहले कि हम फिर गुलाम हो जाएं ।।

टिप्पणियाँ

  1. sir hamai sarkaar america ke paanv me pille ki tarah baithi hai...

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुलाम अभी भी हैं अप्रत्यक्ष रूप से... भारत को ही पाकिस्तान बनाने की तैयारियां चल रही हैं>..

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे भय्या ये चीन ही है बस. तालेबान से लेकर माओवादियों तक सारी फौजें उन्हीं की हैं - तिब्बत से लेकर पेशावर तक और दंतेवाडा से लेकर इम्फाल तक इंसानियत को वही लहूलुहान कर रहे हैं इस उम्मीद में कि एक दिन सारी दुनिया को कब्जिया लेंगे. पाकिस्तान तो उनका एक अदना सा प्यादा है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस ढाक को भी किसी चाणक्य के द्वारा ही सही उपचार मिलेगा

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)