सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

है फटी लंगोटी भारती के लाल की ।।


     आज की गंदी राजनीति में फंस कर बेहाल हुए देश की दशा का वर्णन बडे ही मार्मिक ढंग से कवि आर्त ने अपनी इन पंक्तियों में किया है ।
प्रस्‍तुत पंक्तियां महाकवि अनिरूद्धमुनि पाण्‍डेय 'आर्त' कृत हनुमच्‍चरितमंजरी महाकाव्‍य से ली गयी हैं ।

कहां वो सुराज्‍य जहां श्‍वान को भी मिले न्‍याय
आज न्‍याय-देवि बिके धनिकों के हॉंथ हैं ।
मन्‍द पडी धर्म, सत्‍य, नीति की परम्‍परायें
कर रहे ठिठोली तप-साधना के साथ हैं ।
परशीलहारी दुराचारिये निशंक घूमें
किन्‍तु पतिरखवारे ठाढे नतमाथ हैं ।
चाह महाकाल की कि चाल कलिकाल की
अचम्‍भा, हाय!  कौन सोच मौन विश्‍वनाथ हैं ।।

सत्‍य अनुरागी हैं उटज में अभावग्रस्‍त
किन्‍तु दूर से ही दिखें कोठियां दलाल की ।
चोरी, घूसखोरी, बरजोरी में ही बरकत है
कोई ब्‍यर्थ क्‍यूं करे पढाई बीस साल की ।
पौंडी-पौंडी उठने का कौन इन्‍तजार करे
वंचकों को चाहिये उठान तत्‍काल की ।
दूर से दमकता दुशाला दगाबाजियों का
'आर्त' है फटी लंगोटी भारती के लाल की ।।

राजनीति की पुनीत वीथि आज पंकिल है
क्षुद्र स्‍वार्थ-साधना में लीन ये जहान है ।
धूर्त, नीच, लम्‍पट, सदैव जो अनीतिरत
लोक-धारणा मे वही बन रहा महान है ।
झूठ, चाटुकारी, पक्षपात का है बोलबाला
जितना पिचाली, उतना ही वो सयान है ।
'आर्त' रे अभागे! हरि सों न अनुरागे
मिथ्‍या दम्‍भ वश त्‍यागे सद्ग्रन्‍थन को ज्ञान है ।।

मानस के राजहंस काक, बक, बृकों मध्‍य
सहें अपमान , रहें आहत हो मौन है ।
गणिका पढाती पाठ सतियों, सावित्रियों को
कपिला को व्‍यंग्‍य कसें सूकरी कै छौन हैं ।
देव-संस्‍कृति के पुजारी मधुशाला चले
मन्दिरों को मुंह चिढाते जालिमों के भौन हैं ।
'आर्त' विलखात हाय! क्‍या है विधिना की चाह
ऐसी दुर्दशा के जिम्‍मेदार कौन कौन हैं ।।

।। कवि अनिरूद्धमुनि पाण्‍डेय 'आर्त' कृत ''हनुमच्‍चरितमंजरी महाकाव्‍य'' से साभार स्‍वीकृत ।।

टिप्पणियाँ

  1. "आज की गंदी राजनीति में फंस कर बेहाल हुए देश की दशा का वर्णन बडे ही मार्मिक ढंग से कवि आर्त ने अपनी इन पंक्तियों में किया है"

    बिल्कुल सही बात है जी ये....!

    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  2. साधारण शब्दों में बहुत अच्छी जानकारी

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।

यह सत्य-सनातन-धर्म-रीति, वैखरी-वाक् वर्णनातीत विधि के हाँथों में पली-बढ़ी, विस्तारित इसकी राजनीति इसके ही पूर्वज सूर्य-चन्द्र-नक्षत्र-लोक-पृथ्वीमाता इसकी रक्षा हित बार-बार नारायण नर बन कर आता कितना उज्ज्वल इतिहास तुम्हारा बात न यह बिसराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू समाज ने गुरु बनकर फैलाया जग में उजियारा निष्‍कारण किया न रक्तपात पर दुश्‍मन दौड़ाकर मारा मानव को पशु से अलग बना इसने मर्यादा में ढाला इतिहास गढ़ा सुन्दर,रच डाली पावन वेद-ग्रन्थमाला पाणिनि बनकर व्याकरण दिया,चाणक्यनीति भी समझाया बन कालिदास,भवभूति,भास साहित्य-मूल्य भी बतलाया जीवन के उच्चादर्शों का अब फिर से ज्ञान कराओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
हिन्दू ने इस समाज को जाने कितने सुन्दर रत्न दिये पर हा ! कृतघ्न संसार ! नष्‍ट हो हिन्दू सतत प्रयत्न किये मासूम रहा हिन्दू समाज कसते इन छद्म शिकंजों से कर सका नहीं अपनी रक्षा घर में बैठे जयचन्दों से हिन्दू ने जब हिन्दू के ही घर को तोड़ा भ्रम में आकर मुगलांग्लों ने सत्ता छीनी हमको आपस में लड़वाकर घर के भेदी इन जयचन्दों को अब यमपुर पहुँचाओ ।। हिन्दू तुम कट्टर बन जाओ ।।
काँपती धरा-दिग्पाल-गगन जब हिन्…

बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजन ।।

यह कवि श्री गोस्‍वामी बिन्‍दु जी के दुर्लभ भजनों में से एक है जिसे कवि श्री आर्त ने गाया है  ।
सुनिये और आनन्‍द लीजिये  ।।


हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा - हिन्‍दी दिवस विशेष काव्‍य

हिन्‍दू का बुलन्‍द हो नारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा 

हिन्‍दु-धर्म इतिहास पुराना
कौन भला इससे अनजाना 
प्रेम-धर्म का ताना-बाना 
सुरमय जीवन-गीत सुहाना 
अमृतमय जीवन-रस-धारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दीरग-रग बसे हिन्‍दु के 
तन्‍तु गुथे ज्‍यूँ माला मनके 
जैसे मद मतंग का नाता 
अलग नहीं जैसे हरि-हर से 
इक दूजे का सबल सहारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दुस्‍थानस्‍वर्ग से सुन्‍दर 
जन्‍मकाम विधि-बिबुध व हरि-हर 
इसकी मिट्टी की खुशबू है 
पारिजात-पुष्‍पों से बढकर 
हर हिन्‍दू का प्राणों प्यारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान-हिन्‍दुहै 
भारत की पहचान हिन्‍दु है 
जीवन का अरमान हिन्‍दु है 
पर-हित पर बलिदान हिन्‍दु है 
हिन्‍दू चिर 'आनन्‍द' हमारा 
हिन्‍दी-हिन्‍दुस्‍थान हमारा

 हिन्‍दी दिवस की पावन शुभकामनाओं के साथ 

भवदीय - विवेकानन्‍द पाण्‍डेय (आनन्‍द)